बहराइच का सम्पूर्ण इतिहास History of Bahraich in hindi

भाषा चुने | हिंदी | ENGLISH

बहराइच की गौरव एवं वैभव गाथा

बहराइच इतिहास/ बहराइच का गौरव: भारतवर्ष अपनी विविधताओं के साथ अपना गौरवशाली इतिहास को समेटे हुये है, ऐतिहासिक दृष्टि से जनपद बहराइच का अतीत अत्यंत गौरवशाली और महिमामंडित रहा है। पुरातात्विक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, भौगोलिक तथा औध्योगिक दृष्टि से बहराइच का अपना विशिष्ट स्थान है। हिन्दू मुस्लिम सांप्रदायिक सदभाव, आध्यात्मिक, वैदिक, पौराणिक, शिक्षा, संस्कृति, संगीत, कला, सुन्दर भवन, धार्मिक, मंदिर, मस्जिद, ऐतिहासिक दुर्ग, गौरवशाली सांस्कृतिक कला की प्राचीन धरोहर को आदि काल से अब तक अपने आप में समेटे हुए बहराइच का विशेष इतिहास रहा है। बहराइच के उत्पत्ति का इतिहास निम्न प्रकार से है। इतिहास में बहराइच की आज तक की जानकारी।

बहराइच का प्राचीन इतिहास Bahraich उत्तर प्रदेश: भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के में स्थित एक नगर है। बहराइच जिला मुख्यालय भी है। अत्यधिक घनिष्ट जंगल और तीव्र बहती नादियाँ बहराइच ज़िले की प्रमुख आकर्षण है। बहराइच उत्तर प्रदेश के उन 21 जनपदों में से एक है जहाँ अल्पसंख्यक आबादी का बाहुल्य है और जो आर्थिक रूप से पिछड़ा भी है। बहराइच जनपद ने स्वतंत्रता आंदोलनोंं में भी अपना योग्यदान दिया है। महाराजा सुहेलदेव की गौरवगाथा इसी मिट्टी पर रची हुई है। बहराइच जिला देवीपाटन मंडल का एक हिस्सा है। बहराइच की ऐतिहासिकता अवध क्षेत्र में है।

पौराणिक इतिहास बहराइच: बहराइच ऐतिहासिक दृष्टि से अत्यधिक महत्त्वपूर्ण माना गया है। बहराइच भगवान ब्रह्मा की राजधानी के रूप में प्रसिद्ध है। पौराणिक मान्यताओं अनुसार इस क्षेत्र को ब्रह्मा जी ने विकसित किया था। बहराइच को गंधर्व वन के हिस्से के रूप में भी जाना जाता था। आज भी बहराइच जिला के उत्तर पूर्वी क्षेत्र जंगलो द्वारा ढका हुआ है। ऐसा माना जाता है कि ब्रह्मा जी ने ऋषियों और साधुओं के पूजास्थली के रूप में बहराइच को वन से ढँक दिया था। इसलिए इस जगह को “ब्रह्मिच” के रूप में जाना जाता है। बहराइच पर ऋषि और साधु-संत पूजा एवं तपस्या किया करते थे। कहा जाता है कि वनवास के दौरान पांडव अपनी माता कुंती के साथ इस स्थान पर गए थे।

त्रेता युग का बहराइच: बहराइच सरयू नदी के तट पर स्थित एक सुंदर शहर है। तेजी से बहने वाली नदियाँ और घने हरे जंगल बहराइच की सुंदरता में चार चांद लगाते हैं। बहराइच का इतिहास बहुत पुराना है यहां पुरुषोत्तम श्रीराम और उनके पुत्र लव और कुश ने राज किया था। पुराणों के अनुसार श्रीराम के पुत्र लव और राजा प्रसेन्जित ने बहराइच पर शासन किया था। महाराजा जनक के गुरु, ऋषि अष्टावक्र भी यहाँ रहते थे। ऋषि वाल्मीकि और ऋषि बालक भी यहाँ रहते थे।

बहराइच नाम कैसे पड़ा: ऐसा माना जाता है कि बहराइच नाम ब्रह्माण्ड के निर्माता ब्रह्मा से मिला था। सूत्रों का कहना है कि यहाँ एक प्राचीन ब्रह्मा मंदिर था, इस प्रकार इस शहर को नाम दिया गया ब्रह्मिच, इस प्रकार, बहराइच। दूसरों का कहना है कि शहर को इसका नाम महर्षि भर के आश्रम से मिला था। एक बार बहराइच में ऋषियों, मुनियों (हिंदू संतों), भीखू (भिक्षु भिक्षुओं) का निवास था।

बहराइच जनपद की स्थिति: बहराइच देवीपाटन मंडल के उत्तर पूर्वी भाग में स्थित है। बहराइच पूर्व-मध्य उत्तर प्रदेश और नेपाल के नेपालगंज व लखनऊ के बीच रेलमार्ग पर स्थित है। जनपद बहराइच के उत्तर में नेपाल के साथ अंतरराष्ट्रीय सीमा है। बहराइच जिले का शेष भाग उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों से घिरा हुआ है। पश्चिम में लखीमपुर खीरी और सीतापुर, दक्षिण में हरदोई, दक्षिण-पूर्व में गोंडा, और पूर्व में श्रावस्ती है।

बहराइच जनपद की अर्थव्यवस्था: बहराइच जनपद की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है, इस क्षेत्र की मुख्य फसलों में गेहूँ, चावल, गन्ना, दालें एवं सरसों शामिल हैं। रेशम-कीट पालन जनपद के अन्य व्यवसायों में से एक है। जनपद में कुल वनाच्छादित भूमि का क्षेत्रफल 67926 हेक्टेयर है जो जनपद के कुल क्षेत्रफल का 13.97% है। इस क्षेत्र की अधिकतम औद्योगिक इकाइयाँ कृषि या वन आधारित उत्पादों पर निर्भर हैं। गेहूँ के डंठल से निर्मित हस्तकला यहाँ का एक मुख्य उत्पाद है।

भर वंश की राजधानी: मध्ययुग में कुछ अन्य इतिहासकारों के अनुसार यह स्थान “भार” वंश की राजधानी था। इसलिए इसे “भराइच” कहा जाता था। जिसे बाद में “बहराइच” के नाम से जाना जाने लगा।

चीनी यात्री ह्वेनत्संग: प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेनत्संग और फेघ्यान ने इस स्थान की यात्रा की। प्रसिद्ध अरब यात्री इब्ने-बा-टुटा ने भी बहराइच की यात्रा की और लिखा कि बहराइच एक खूबसूरत शहर है, जो पवित्र नदी सरयू के तट पर स्थित है।

महाराजा सुहेलदेव 11वीं सदी में श्रावस्ती के सम्राट: इतिहासकारो से पता चलता है कि महाराजा सुहेलदेव 11वीं सदी में श्रावस्ती के सम्राट थे, जिन्हें एक महान योद्धा के तौर पर देखा जाता है। महमूद गजनवी ने जब हिन्दुस्तान पर आक्रमण किया और उसकी अलग-अलग सेनाएं हिन्दुस्तान में घुसने लगीं तब श्रावस्ती की कमान महाराजा सुहेलदेव के हाथ में ही थी। महमूद गजनवी के भांजे सैयद सालार मसूद ग़ाज़ी ने सिंधु नदी के पार तत्कालीन भारत के कई हिस्सों पर अपना कब्जा जमा लिया था। लेकिन जब वो बहराइच की तरफ आया, तब उसका सामना महाराजा सुहेलदेव से हुआ। बहराइच में हुई इस जंग में महाराजा सुहेलदेव ने गजनवी के के भतीजे को हरा दिया। 17वीं सदी में जब फारसी भाषा में मिरात-ए-मसूदी लिखी गई, तब इस वाकये का विस्तार से जिक्र किया गया है।

1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बहराइच की योगदान

जनरल आउटम का अवध कंपनी पर शासन: 7 फरवरी 1856 को निवासी जनरल आउटम ने अवध पर कंपनी का शासन घोषित किया। बहराइच को एक विभाजन का केंद्र बनाया गया था और श्री विंगफील्ड को इसके आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया था।

लॉर्ड डलहौसी की राज्य हड़पने की नीति: लॉर्ड डलहौसी की राज्य हड़पने की नीति के कारण छलनी राष्ट्र अंग्रेजों के शासन के खिलाफ था। स्वतंत्रता संग्राम के नेता नाना साहब और बहादुर शाह जाफर, ब्रिटिश शासन के खिलाफ थे। सम्मेलन के दौरान पेशवे नाना साहब ने स्थानीय शासकों के साथ एक गोपनीय बैठक के लिए बहराइच का दौरा किया। बैठक वर्तमान में एक जगह पर आयोजित की गई थी जिसे भिंगा के राजा नाना साहेब के उद्बोधन पर “गुलबाबेर” के रूप में जाना जाता है, बउन्दी, चहलारी, रेहुआ, चारदा आदि इस स्थान पर एकत्र हुए और नाना नायब को मृत्यु तक स्वतंत्रता संग्राम का वादा यही पर किया था।

स्वतंत्रता संग्राम के दौरान कमिश्नर: कर्नलगंज श्री सी डब्ल्यू कैलीफ, उप आयुक्त लेफ्टिनेंट बेली और श्री जॉर्डन दो कंपनियों के साथ बहराइच में थे। बहराइच का संघर्ष बहुत बड़े पैमाने पर था। सभी रायकवार राजा सभी सार्वजनिक समर्थन के साथ ब्रिटिश शासन के खिलाफ थे। जब संघर्ष शुरू हुआ तो तीनों अंग्रेज अधिकारी नानपारा होते हुए हिमालय की ओर चले गए। लेकिन विद्रोही राजाओं के सैनिकों ने इन रास्तों को अवरुद्ध कर दिया। इसलिए वे लखनऊ जाने के क्रम में बहराइच लौट आए। लेकिन जब वे बेहराम घाट (गणेशपुर) के पास पहुँचे तो सभी नावें विद्रोह करने वाले सैनिकों के नियंत्रण में थीं। जिसमें गंभीर संघर्ष हुआ और तीनों अधिकारी मारे गए। और बहराइच जिला स्वतंत्रता सेनानियों के नियंत्रण में आ गया। 

बौंडी किले का इतिहास: 16 नवंबर 1857 को अंग्रेजी हुकूमत ने लखनऊ की नवाबी सेना को परास्त किया। अंग्रेजों से बचकर लखनऊ की बेगम हजरत महल अपने बेटे विरजिस कदर के साथ लखनऊ से महमूदाबाद होते हुए घाघरा नदी पार कर बौंडी पहुंचीं। बौंडी का इतिहास कई इतिहासकारों की रचनाओं में वर्णित है। इसमें ‘अवध का इतिहास’, अमृतलाल नागर कृति ‘गदर के फूल’ व टीकाराम त्रिपाठी रचित ‘बौंडी के अतीत’ में देखने को मिलता है।

राजा वीर बलभद्र सिंह का स्वतंत्रता संग्राम में भूमिका: चहलारी के राजा वीर बलभाद्र सिंह का भी स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। बहराइच में भी विद्रोह शुरू हुआ जैसे ही अवध में शुरू हुआ। 27 नवंबर 1857 को चहलारी के राजा बलभद्र सिंह ने चिंन्हाट के पास अंग्रेजों के साथ युद्ध के दौरान अपना जीवन खो दिया। यहां तक ​​कि अंग्रेजों ने भी उनकी बहादुरी की प्रशंसा की। भिटौनी के राजा ने भी युद्ध किया और अपना जीवन खो दिया।

ब्रिटिश सेना का नानपारा पर कब्जा: 26 दिसंबर 1858 को ब्रिटिश सेना ने नानपारा पर कब्जा कर लिया। पूरा नानपारा नष्ट कर दिया गया था। स्वतंत्रता सेनानियों के सैनिकों ने बरगदिया के किले पर इकट्ठा होना शुरू कर दिया। वहां बड़ा संघर्ष हुआ। लगभग 4000 सैनिकों ने भागकर मस्जिदिया के किले में शरण ली लेकिन अंग्रेजों ने फिर से किले को नष्ट कर दिया, और धर्मनपुर में युद्ध हुआ। लॉर्ड क्लाइव राप्ती नदी के तट पर रहने वाले अन्य विलायकों की ओर बढ़ गया।

चर्डा पर ब्रिटिश सेना कब्जा: 27 दिसंबर 1858 को ब्रिटिश सेना चारदा की ओर बढ़ी और 2 दिनों के युद्ध के बाद ब्रिटिश सेना ने उस पर कब्जा कर लिया। 29 दिसंबर, 1858 को ब्रिटिश सेना नानपारा लौट गई। इस प्रकार अंग्रेजों ने अपने बेहतर सशस्त्र बलों के आधार पर पहला स्वतंत्रता संग्राम जीता।

1920 में कांग्रेस पार्टी की स्थापना के साथ बहराइच में दूसरी स्वतंत्रता संग्राम की शुरुआत: 1920 में कांग्रेस पार्टी की स्थापना के साथ बहराइच में दूसरा स्वतंत्रता संग्राम शुरू हुआ। बाबा युगल बिहारी पांडे, श्याम बिहारी पांडे, मुरारी लाल गौर और दुर्गा चंद ने 1920 में जिले में कांग्रेस पार्टी की स्थापना की। उन दिनों होम रूल लीग पार्टी भी सक्रिय थी। बाबा विंध्यवासिनी प्रसाद, रघुपति सहाय फिराक गोरखपुरी और पीडी, गौरी शंकर ने कांग्रेस के प्रभाव को बढ़ाने के लिए बहराइच का दौरा किया। श्रीमती सरोजिनी नायडू ने 1926 में बहराइच का दौरा किया और सभी श्रमिकों से स्वराज्य और खादी पहनने की अपील की। फरवरी 1920 में साइमन कमीशन का विरोध करने के लिए नानपारा, जारवाल और बहराइच टाउन में हड़ताल की गई थी।

गांधी जी का बहराइच का दौरा: 1929 में गांधी जी ने बहराइच का दौरा किया और एक सार्वजनिक बैठक की। जहां बैठक की थी वह हाई स्कूल अब महाराज सिंह इंटर कॉलेज के रूप में जाना जाता है। राष्ट्र के अन्य हिस्सों की तरह बहराइच में भी तीखी प्रतिक्रिया हुई जब गांधीजी ने अपना नमक आंदोलन शुरू किया। 6 मई 1930 को कुल हड़ताल हुई। नमक कानून भी तोड़ा गया। सभी प्रमुख नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। अगले दिन एक बड़ा जुलूस हुआ और ब्रिटिश शासन का पुतला जलाया गया। गांधी जी के सत्याग्रह के लिए 762 लोगों ने अपने नाम प्रदान किए। जिसमें से 371 को गिरफ्तार किया गया था।

पं जवाहर लाल नेहरू का बहराइच का दौरा: 6 अक्टूबर 1931 को पं जवाहर लाल नेहरू ने बहराइच का दौरा किया और रामपुरवा, हरदी, गिलौला और इकौना में जनसभा की।

भारत छोड़ो आंदोलन बहराइच: 9 अगस्त 1942 को जब गांधी जी को भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान गिरफ्तार किया गया था, तब जिले में तीखी प्रतिक्रिया हुई थी। एक विशाल जुलूस हुआ। 1946 में अंतिम स्वतंत्रता संग्राम के लिए रेखाएँ खींची गईं। 15 अगस्त 1947 आजादी का दिन बड़े उत्साह के साथ मनाया गया।

15 अगस्त 1947 आजादी का दिन पाकिस्तानी शरणार्थी: 15 अगस्त 1947 को, गांधीजी का सपना सच हो गया और आजादी का दिन बड़े उत्साह के साथ मनाया गया। ऐसा कहा जाता है कि पाकिस्तान से 1375 शरणार्थी बहराइच आए और जिले में उनका पुनर्वास किया गया।

बहराइच के दर्शनीय स्थल:
कतर्निया वन्यजीव अभयारण्य बहराइच
दरगाह शरीफ बहराइच
सिद्धनाथ मंदिर पांडव कालीन मंदिर बहराइच
मरी माता मन्दिर बहराइच
चित्तूर झील बहराइच
जंगली नाथ मंदिर बहराइच
सीता दोहर झील बहराइच
कैलाशपुरी बांध बहराइच
मगरमच्छ प्रजनन केंद्र बहराइच
बहराइच दरगाह बहराइच
संघारिणी मंदिर बहराइच

सईद सालार मसूद की दरगाह बहराइच: स्थानीय जनश्रुति के अनुसार बहराइच शब्द को ‘ब्रह्मराइच’ का अपभ्रंश है। बहराइच में जहाँ सईद सालार मसूद की दरगाह है, प्राचीन काल में वंहा सूर्य मंदिर था। माना जाता है की इस मंदिर को रुदौली की अंधी कुमारी जौहरा बीवी ने बनवाया था। दरगाह को बनवाने वाला दिल्ली का तुग़लक़ सुल्तान फ़िरोजशाह को माना जाता है।

Key Word: Bahraich parichay, Bahraich ki sthapana, Bahraich ka vaidik itihas, Bahraich ki katha, Bahraich ka itihas, Bahraich history in hindi, Bahraich famous for, village list of Bahraich, Bahraich fort, Bahraich famous food, Bahraich population, Bahraich district, population 2020, Bahraich history in hindi, Bahraich direction, population of Bahraich district, bahraich village list, bahraich district map, bahraich to lucknow, bahraich tehsil list

बहराइच की ताजा खबर। बहराइच दर्शनीय स्थल। बहराइच का नया नाम क्या है। बहराइच का राजा कौन था। बहराइच किस राज्य में स्थित है। बहराइच जिला नक्शा।बहराइच सांसद नाम। बहराइच जिला के समाचार। बहराइच में कितनी नदियां हैं। बहराइच के गांव के नाम। बहराइच का प्राचीन इतिहास। बहराइच में कुल कितने ब्लॉक हैं। बहराइच के बारे में। बहराइच की तहसील। बहराइच का नया नाम क्या है। बहराइच जिले में कितने गांव हैं। बहराइच जिले का इतिहास 1857 bahraich district. बहराइच जिले के गांव की लिस्ट। बहराइच जिले का नक्शा। बहराइच जिले के गांव के नाम। बहराइच की सूची। प्रधानमंत्री आवास योजना बहराइच की लिस्ट। यहां से बहराइच कितने किलोमीटर है। बहराइच जिले में कितने थाने हैं। ग्राम पंचायत लिस्ट बहराइच। बहराइच में कितने गांव हैं। बहराइच ब्लॉक लिस्ट। बहराइच का युद्ध।

Leave a Reply

Don`t copy text!